इन कारणों से बच्चों में फैलता है टाइफाइड


1. दूषित हुआ खाना खाने से बच्चों में टाइफाइड जैसा रोग फैलने का चांस होता है. अगर जाने समझें बिना कोई बच्चा टाइफी बैक्टीरिया से संक्रमित चीजों का खाता है तो टाइफाइड हो सकता है.


2. खराब और दूषित पानी पीने से टाइफाइड होने का चांस होता है. बारिश के वक्त जब बच्चे बिना फिल्टर किया या उब ले बिना ही पानी पीते हैं तो टाइफाइड हो जाने का खतरा हो सकता है.


3. अगर कोई टाइफाइड बीमारी से हो उस व्यक्ति के आस पास में आ जा ते है, तो उससे टाइफाइड हो जाने का चांस और भी बढ़ सकता है. जबकि टाइफाइड एक संक्रमण रोग है.



बच्चों में ऐसे दिखते हैं टाइफाइड के लक्षण


बच्चे में टाइफाइड के ये लक्षण 1 से लेके 2 हफ्ते आस पास दिखाई देने लगते हैं. यह लक्षण हल्के फुल्के और ज्यादा गंभीर दोनों हो सकते हैं. आइए जानते हैं बच्चों में टाइफाइड के मुख्य और ज्यदादर लक्षणों के बारे में....


- सिर और पेट में दर्द होना.

- थकान के साथ कमजोरी महसूस होना.
- खांसी और गले में खराश.
- कब्ज या डायरिया, आदि.
- 100.4 डिग्री फैहरनहाइट बुखार होना.
- शरीर में दाने निकलना.
- भूख में कमी आना.


लक्षण दिखने पर क्या करें


अगर बच्चो में टाइफाइड के लक्षण जैसा दिखते हैं बिना टाइम लगाए डॉक्टर के पास जाना चाहिए. टाइफाइड होने पर नीचे दिए चीजों को अपनाकर भी फायदा ले सकते हैं.


1. बच्चो में टाइफाइड का लक्स्न होने पर ज्यादा लिक्विड दें. हर आधे घंटे के आस पास में बच्चों को कुछ तरल पदार्थ देते रहें. डॉक्टर ओरल रीहाइड्रेशन सोल्यूशन (ओआरएस) भी दे. इससे बच्चे के शरीर में पानी की कमी का सामना नहीं होगी.


2. टाइफाइड हो जाने पर इन बच्चों को बिल्कुल भी बाहर ना निकल ने दें. ऐसी कुछ परीस्थिति में उनको ज्यादा आराम लेनेकी जरूरत होती है. आराम लेनेसे उनको कमजोरी जैसा नहीं होगी और संक्रमण से लड़ने के लिए शरीर में ताकत जैसा रहेगी.


3. टाइफाइड हो जाने पर बहुत तेज बुखार आ जाता है इसलिए बच्चे नहाते भी नहीं है. लेकिन इस बीमारी में साफ-सूत्र रखना बहुत जरूरी है. इसलिए उन्हें स्पंज बॉथ कराएं. 

Post a Comment

Previous Post Next Post